25.7 C
Bhopal
July 21, 2024
ADITI NEWS
सामाजिकहैल्थ

मंडला ,ध्यान, प्राणायाम और आसन से मन-तन की शुद्धि: दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान का अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कार्यक्रम नेहरू पार्क में मनाया गया

ध्यान, प्राणायाम और आसन से मन-तन की शुद्धि: दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान का अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर कार्यक्रम नेहरू पार्क में मनाया गया

21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान द्वारा योग सत्र आयोजित किया गया। नेहरू उद्यान मंडला में आयोजित इस योग सत्र में विशिष्ट वक्ता एवं समन्वयक स्वामी शारदानंद जी ने योग के प्रति जागरूक करते हुवे अपने उद्बोधन में बताया कि इस दिन पृथ्वी की दृष्टि से सूर्य कर्क रेखा से मकर रेखा (उत्तर से दक्षिण) की ओर बढ़ना शुरु करता है। इस दौरान सूर्य की किरणें अधिक समय तक धरती पर पड़ती हैं। इसलिए इस दिन सूर्य न केवल जल्दी उदित होता है, बल्कि देर से ढलता है। यह दिन पूरे वर्ष का सबसे लंबा दिन होता है। दीर्घ दिन पर मानव कैसे दीर्घायु हो, यही 21 जून पर योग-दिवस का खास संदेश है। साथ ही, प्रकृति की सकारात्मक ऊर्जा सक्रिय होने के कारण इस दिन योग द्वारा मानव को प्रकृति का विशेष सहयोग प्राप्त होता है।

हमारे ऋषि-मुनियों ने योग द्वारा शरीर, मन और प्राण की शुद्धि और परमात्मा की प्राप्ति के लिए आठ प्रकार के साधन बताए हैं, जिसे अष्टांग योग कहा जाता है। योग के ये आठ अंग हैं यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, ध्यान, धारणा और समाधि। मन और तन को संतुलित रखने का एकमात्र साधन ध्यान योग है। ध्यान योग के माध्यम से हम अपने चित्तवृत्तियाँ का निरोध करते हुवे परमात्मा जुड़ सकते हैं। स्वामी गोपालानंद जी ने ध्यान, योगासन एवं प्राणायाम से होने वाले लाभों से अवगत कराया। इस योग सत्र को श्री आशुतोष महाराज जी की शिष्या, महिला योग समिति जिला अध्यक्ष एवं योग शिक्षिका श्रीमती अर्चना देशमुख तथा योग शिक्षिका श्रीमती लीना सोनवानी ने संपन्न कराया।

Aditi News

Related posts