25.1 C
Bhopal
October 3, 2022
ADITI NEWS
धर्मराजनीतिरोजगारव्यापार समाचार

मध्य प्रदेश के प्रमुख समाचार,भगवान श्री कृष्ण की नीति के अनुसार दुष्टों पर वज्र सी कठोर है राज्य सरकार : मुख्यमंत्री श्री चौहान

भगवान श्री कृष्ण की नीति के अनुसार दुष्टों पर वज्र सी कठोर है राज्य सरकार : मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की दी शुभकामनाएँ
बरखेड़ी स्थित श्रीराधा कृष्ण मंदिर में की पूजा-अर्चना

भोपाल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का दिन आनंद, उल्लास और उत्साह का दिन है। भगवान श्रीकृष्ण ने यही संदेश दिया कि सज्जनों के लिए फूल से कोमल और दुष्टों पर वज्र से कठोर होना चाहिए। भगवान श्रीकृष्ण की नीति अनुसार जो भी प्रदेश की शांति व्यवस्था और सौहार्द से खिलवाड़ करेगा, उसके लिए राज्य सरकार वज्र से कठोर होगी।

मुख्यमंत्री श्री चौहान श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर अहीरपुरा बरखेड़ी स्थित श्रीराधा कृष्ण मंदिर में पूजा-अर्चना के बाद उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बाल गोपाल की पालकी यात्रा का शुभारंभ किया। “नन्द के घर आनंद भयो, जय कन्हैया लाल की” के घोष के साथ श्रद्धालुओं को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बधाई और शुभकामनाएँ दी।

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि भगवान श्रीकृष्ण द्वारा प्रेम और भक्ति के साथ कर्म का संदेश दिया गया है। फल की चिंता किये बगैर सदैव अच्छे कार्य करने चाहिए। उन्होंने भगवान श्रीकृष्ण से प्रदेशवासियों की सुख, समृद्धि और अच्छे स्वास्थ्य की कामना की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण का आशीर्वाद और कृपा सदैव हमारे देश पर बनी रहे और भारतवर्ष प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में विश्व गुरू के रूप में स्थापित हो। चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग, महापौर श्रीमती मालती राय, विधायक श्री रामेश्वर शर्मा, सामाजिक कार्यकर्ता श्री राहुल कोठारी सहित नागरिक उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान “सफलता के मंत्र” कार्यक्रम में प्रतिभाओं को करेंगे सम्मानित

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान यूपीएससी में चयनित अभ्यार्थियों को “सफलता के मंत्र” कार्यक्रम में सम्मानित करेंगे। भोपाल के रवीन्द्र भवन सभागार में 20 अगस्त को अपरान्ह 3 बजे से होने वाले इस सम्मान समारोह से जुड़ने के लिए mp.mygov.in पर रजिस्ट्रेशन कराया जा सकता है।

जी-20 समूह की बैठकों की व्यवस्थाएँ बेहतर हों : मुख्यमंत्री श्री चौहान

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इंदौर, भोपाल और खजुराहो में होने वाली जी-20 समूह की बैठकों के लिए प्रदेश में बेहतर तैयारी हो। मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में जी-20 समूह की बैठकों की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश की छवि को अच्छे ढंग से प्रदर्शित करें। जहाँ बैठक हों वहाँ साफ-सफाई और शहर की साज-सज्जा की जाए। बैठक में शामिल होने वाले अतिथियों के दिल-दिमाग में प्रदेश की बेहतर छवि बने, इसके प्रयास हों। प्रदेश की विशेषताओं को भी अतिथियों के समक्ष रखा जाए, जिससे विदेश से बैठक में हिस्सा लेने वाले लोग मध्यप्रदेश की यादें लेकर जाएँ। जन-प्रतिनिधियों एवं जनता का भी सहयोग लिया जाए।

मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव गृह डॉ. राजेश राजौरा, अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन एवं नीति विश्लेषण संस्थान के उपाध्यक्ष प्रो. सचिन चतुर्वेदी, प्रमुख सचिव संस्कृति श्री शिव शेखर शुक्ला, प्रमुख सचिव उद्योग नीति एवं निवेश प्रोत्साहन श्री सजंय शुक्ला सहित वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

मध्यप्रदेश की उपलब्धियों को प्रवासी भारतीयों तक पहुँचायें: मुख्यमंत्री श्री चौहान

इंदौर में होगा प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन तैयारियों की समीक्षा

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि इंदौर में होने वाले प्रवासी भारतीय दिवस की सभी तैयारियाँ समय पर पूर्ण कर ली जाएँ। सम्मेलन का आयोजन बेहतर ढंग से हो। मध्यप्रदेश की उपलब्धियों की ब्रांडिंग का यह अच्छा मौका है। इंदौर को पूरी तरह सजा कर रखा जाए। इंदौर स्वच्छता में नम्बर -1 है। इसकी छवि अतिथियों के समक्ष रखें।

मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में प्रवासी भारतीय दिवस के सम्मेलन की तैयारियों की समीक्षा कर रहे थे। भारत सरकार के सचिव, अपर सचिव, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान, प्रमुख सचिव संस्कृति एवं पर्यटन श्री शिव शेखर शुक्ला सहित वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

बैठक में जानकारी दी गई कि वर्ष 2003 में पहला प्रवासी भारतीय दिवस मनाया गया था। अब तक 16 प्रवासी भारतीय दिवस हो चुके हैं। इंदौर में यह 17 वाँ भारतीय दिवस सम्मेलन 8 से 10 जनवरी 2023 तक होना प्रस्तावित है। राष्ट्रपति द्वारा प्रवासी भारतीय सम्मान समापन समारोह में दिए जाएंगे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कॉफ्रेंसिंग द्वारा इंदौर कलेक्टर श्री मनीष सिंह से व्यवस्थाओं की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि कार्यक्रम में प्रवासी भारतीय अधिकाधिक संख्या में आएँ।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रवासी भारतीय सम्मेलन का भव्य आयोजन हो। बैठक में आयोजन संबंधी एमओयू हस्ताक्षरित कर आदान-प्रदान किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सम्मेलन को अदभुत और यादगार बनायें।

तथ्यात्मक और सटीक आंकड़ों से योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन संभव : मुख्यमंत्री श्री चौहान

राज्य सांख्यकी आयोग का होगा गठन

म.प्र. के सकल घरेलू उत्पाद के अनुमान तैयार करने की कार्य पद्धति एवं गणना पर प्रशिक्षण-सह-कार्यशाला

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि आर्थिक गतिविधियों के तथ्यात्मक और सटीक आंकड़े उपलब्ध हों तो योजनाओं का क्रियान्वयन अच्छे ढंग से संभव होता है। परिवर्तन के इस दौर में सटीक आंकड़े उपलब्ध नहीं हो तो नीति अच्छी नहीं बन पायेगी। योजनाओं के निर्माण से लेकर क्रियान्वयन तक का दारोमदार आंकड़ों पर ही निर्भर करता है। मुख्यमंत्री श्री चौहान कुशाभाऊ ठाकरे सभागार में मध्यप्रदेश के सकल घरेलू उत्पाद के अनुमान तैयार करने की कार्य पद्धति एवं गणना पर प्रशिक्षण-सह-कार्यशाला के समापन-सत्र को संबोधित कर रहे थे। वाणिज्यिक कर, वित्त, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री श्री जगदीश देवड़ा भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि टास्क फोर्स कमेटी की अनुशंसा के आधार पर मध्यप्रदेश देश का पहला राज्य है, जहाँ राज्य सांख्यिकी आयोग का गठन हो रहा है। राज्य और जिला स्तर पर पूर्ण कम्प्यूटराइजेशन का निर्णय लिया गया है। इससे काम करना आसान हो जायेगा। डेटा के मानकीकरण के लिए सांख्यिकी प्रकोष्ठ का निर्माण किया गया है। देश और प्रदेश को आगे बढ़ाने के लिए लक्ष्य तय करना पड़ेंगे। बिना बड़ा लक्ष्य निर्धारित किए हम बहुत आगे नहीं बढ़ सकते हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारे दैनिक जीवन की गतिविधियों का आधार भी डेटा होता है। किसी भी क्षेत्र में बिना डेटा के कार्य नहीं चल सकता। वर्तमान सदी डेटा पर निर्भर है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आत्म-निर्भर भारत की परिकल्पना के लिए डेटा पर बल दिया है। डेटा शुद्ध विश्वसनीय हो, जिससे योजनाएँ अच्छी बनें और उनका नीचे तक लाभ पहुँचे। उन्होंने कहा कि डेटा कलेक्शन के लिए ट्रेनिंग और आवश्यक व्यवस्थाएँ करेंगे। डेटा की विश्वसनीयता के लिए दूसरी एजेंसियों का दखल नहीं होना चाहिए। डेटा जनोपयोगी और गुणवत्तापूर्ण होना चाहिए। डेटा खराब होगा तो निष्कर्ष भी खराब निकलेंगे। हमें अच्छे डेटा की आवश्यकता है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 550 अरब डॉलर का योगदान प्रदेश की ओर से भारत की 5 ट्रिलियन की अर्थ-व्यवस्था बनाने में दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि मनुष्य जैसा सोचता और करता है, वैसा हो जाता है। इसलिए यह महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित करने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के प्रशिक्षण निरंतर होते रहेंगे।

अटल बिहारी वाजपेयी सुशासन और नीति विश्लेषण संस्थान के उपाध्यक्ष प्रो. सचिन चतुर्वेदी ने कहा कि सांख्यिकी का हर विभाग में महत्व है। राज्यों के विकास के लिए सकल घरेलू उत्पाद के अनुमान महत्वपूर्ण होंगे। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने भी कहा है भारत का लक्ष्य 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थ-व्यवस्था का है। इसी गति से अर्थ-व्यवस्था में बढ़ोत्तरी होगी तो वर्ष 2025-26 में 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थ-व्यवस्था का लक्ष्य हासिल हो जायेगा। मध्यप्रदेश सबसे तेज गति से आगे बढ़ता प्रदेश है। प्रदेश स्तर पर जो कार्य हो रहा है उसे जिला स्तर पर भी करना होगा। हम 550 बिलियन डॉलर का योगदान देंगे। आज मध्यप्रदेश की कृषि का 170 हजार करोड़ का योगदान है।

सांख्यिकीविद् श्री प्रवीण श्रीवास्तव ने कहा कि लक्ष्य आधारित प्रशिक्षण करते रहने से पॉलिसी मेकिंग में सहायता मिलेगी। प्लानिंग के लिए यह जरूरी है। आगे भी ऐसी कार्यशालाएँ होती रहेंगी।

प्रमुख सचिव योजना एवं आर्थिक सांख्यिकी श्री मुकेशचंद गुप्ता ने कहा कि सांख्यिकी व्यवस्था के सुदृढ़ीकरण और सुधार की आवश्यकता है। इसके लिए अधिकारी-कर्मचारियों के दक्षता संवर्धन की आवश्यकता को देखते हुए यह प्रशिक्षण कार्यशाला की गई है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की महत्वाकांक्षी, आकांक्षी जिला और विकासखंड योजना का इसमें प्रशिक्षण दिया गया है। आईटी का उपयोग करने का प्रशिक्षण भी दिया गया है। नई टेक्नोलॉजी और सुझावों की जानकारी से भी अवगत कराया गया है। अंत में आभार आयुक्त योजना एवं आर्थिक सांख्यिकी श्री अभिषेक सिंह ने माना।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने तेजस जन-कल्याण समिति के साथ किया पौध-रोपण,स्मार्ट सिटी पार्क में लगाए बरगद, मौलश्री और हरसिंगार के पौधे

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने स्मार्ट सिटी सिटी पार्क में बरगद, मौलश्री और हरसिंगार के पौधे लगाए। तेजस जन-कल्याण समिति के श्री प्रवीण गुप्ता, श्री वरूण गुप्ता, श्री रूपेश गुप्ता,श्रीमती वंदना गुप्ता, श्रीमती गुंजेश्वरी गुप्ता, श्री प्रांजल, कुमारी सुविज्ञा तथा श्री मनीष रमनानी पौध-रोपण में सम्मिलित हुए।

तेजस जन-कल्याण समिति गत 06 वर्षों से समाज-सेवा और सामाजिक सद्भाव के लिए कार्य कर रही है। संस्था प्रतिवर्ष छोला दशहरा मैदान पर गोवर्धन पूजा का भव्य आयोजन करती है। संस्था द्वारा जरूरतमंद बच्चों को आवश्यक शैक्षणिक सहायता उपलब्ध कराई जाती है। संस्था पौध-रोपण और स्वच्छता जागरूकता के कार्यक्रम निरंतर संचालित करती है।

पौधों का महत्व

लगाए गए बरगद का धार्मिक और औषधीय महत्व है। आयुर्वेद के अनुसार बरगद की पत्तियों, छाल आदि से कई बीमारियों का इलाज संभव है। मौलश्री भी एक औषधीय वृक्ष है। इसका सदियों से आयुर्वेद में उपयोग होता आ रहा है। हरसिंगार उत्तम औषधीय पौधा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने करूणाधाम आश्रम के बड़े गुरूदेव श्री बालगोविंद जी शांडिल्य के 37वें पुण्य-स्मरण पर किया पौध-रोपण

करूणाधाम आश्रम के पीठाधीश्वर श्री सुदेश शांडिल्य महाराज हुए शामिल,चिनार पार्क में आश्रम से जुड़े श्रद्धालुओं ने किया वृहद पौधरोपण

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने चिनार पार्क में करुणाधाम आश्रम के पितृ-पुरुष बड़े गुरुदेव श्री बाल गोविंद जी शांडिल्य महाराज के 37वें पुण्य-स्मरण पर शमी के पौधे लगाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने पौध-रोपण से पहले श्री बाल गोविंद जी शांडिल्य महाराज के चित्र पर माल्यार्पण कर पुष्पांजलि अर्पित की। इस अवसर पर करूणाधाम आश्रम के पीठाधीश्वर गुरूदेव श्री सुदेश शांडिल्य महाराज तथा गुरूमाता श्रीमती ममता शांडिल्य उपस्थित थी। पौध-रोपण में आश्रम से जुड़े श्रद्धालु सम्मिलित हुए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने परम पूज्य ब्रह्मलीन बड़े गुरूदेव श्री बाल गोविंद जी शांडिल्य महाराज का स्मरण करते हुए कहा कि उन्हीं की कल्पना के परिणाम स्वरूप करुणाधाम आश्रम आकार ले पाया और उनकी मंशा के अनुरूप यहाँ सेवा प्रकल्प निरंतर जारी हैं। माँ की पूजा-आराधना के साथ नर सेवा-नारायण सेवा के भाव को चरितार्थ करते मानव सेवा के प्रकल्प सराहनीय और अनुकरणीय हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ब्रह्मलीन गुरूदेव श्री बाल गोविंद जी शांडिल्य के व्यक्तित्व की अहंकार शून्यता और निरंतर आत्म-विश्लेषण की प्रवृत्ति का उल्लेख करते हुए कहा कि वह मित्र और शत्रु के साथ समभाव और सुख-दुख को समान स्वरूप में स्वीकार करते थे। उनके पुण्य-स्मरण में लगाए गए पौधे कई जीवों के कल्याण का माध्यम बनेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि पौधे लगाना कई जीव-जंतुओं को जीवन देने का माध्यम है। यह आने वाली पीढ़ियों के लिए धरती सुरक्षित रखने की दिशा में किया जाने वाला श्रेष्ठतम प्रयास है। अतः बड़े गुरुदेव 1008 श्री बाल गोविंद जी शांडिल्य का पुण्य-स्मरण पौध-रोपण के माध्यम से करना श्रेष्ठतम है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी को पौध-रोपण के लिए प्रेरित किया।

श्री बाल गोविंद जी शांडिल्य महाराज की स्मृति में लगाए गए शमी को आयुर्वेद की दृष्टि से अत्यंत गुणकारी माना गया है। साथ ही यज्ञों में शमी वृक्ष की समिधाओं का प्रयोग शुभ माना गया है। करूणाधाम आश्रम से जुड़े श्रद्धालुओं ने भी चिनार पार्क में पौधरोपण किया।

मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा श्री महेन्द्र सेठिया के निधन पर दुख व्यक्त

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने श्री महेन्द्र सेठिया के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उल्लेखनीय है कि श्री सेठिया लंबे समय से बीमार चल रहे थे। स्व. श्री सेठिया नईदुनिया के आधार स्तम्भ रहे हैं और उनके पिताजी स्व. श्री बसंतीलाल सेठिया नईदुनिया के संस्थापक सदस्यों में से एक थे। वे मध्यप्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के पदाधिकारी भी रहे हैं। उनका शिक्षा के क्षेत्र में भी प्रमुख योगदान रहा है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और शोक संतप्त परिजन को यह गहन दुख सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना की है।.

केंद्रीय भारी उद्योग मंत्री डॉ. पांडेय से प्रदेश के एमएसएमई मंत्री श्री सखलेचा ने दिल्ली में की भेंट
प्रदेश में औद्योगिक विस्तार समेत कई अहम विषयों पर हुई चर्चा
दिल्ली। केन्द्रीय भारी उद्योग मंत्री डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय से मध्यप्रदेश के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम एवं विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री श्री ओमप्रकाश सखलेचा ने गुरुवार को नई दिल्ली में भेंट की।
केन्द्रीय मंत्री श्री पांडे और श्री सखलेचा के बीच मध्यप्रदेश में औद्योगिक इकाइयों के विस्तारीकरण सहित कई अहम प्रस्तावों पर सार्थक चर्चा हुई। मंत्री श्री सखलेचा ने बताया कि उन्होंने केंद्रीय मंत्री डॉ. पांडेय से बीएचईएल एंसिलरी, औद्योगिक क्षेत्र हबीबगंज की 32 एकड़ भूमि को मध्यप्रदेश शासन के एमएसएमई विभाग को हस्तांतरित करने के लिए चर्चा कर पत्र भी प्रेषित किया।
केंद्रीय मंत्री डॉ. पांडेय ने श्री सखलेचा के प्रस्तावों पर सकारात्मकता दिखाते हुए जल्द ही निराकरण आश्वासन दिया।
एक ही मतदान केंद्र पर रहे परिवार के सभी सदस्यों का नाम
प्रदेश के 64 हजार 634 मतदान केंद्रों का होगा सत्यापन
विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2023 को लेकर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने समीक्षा कर दिए निर्देश
भोपाल। मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री अनुपम राजन ने विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2023 को लेकर चल रही गतिविधियों की वीडियो कॉफ्रेंसिंग से समीक्षा की। साथ ही जिलों में की जा रही गतिविधियों के बारे में जिला निर्वाचन अधिकारियों से जानकारी प्राप्त की। सभी संभागायुक्त और कलेक्टर बैठक में वुर्चअली शामिल हुए।
श्री राजन ने कहा कि एक ही मतदान केंद्र पर एक परिवार के सभी सदस्यों का नाम होना चाहिए। प्रदेश के 64 हजार 634 मतदान केंद्रों का सत्यापन कराएं, जिससे केंद्रों की वर्तमान स्थिति का पता चल सकें। उल्लेखनीय है कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा 25 जुलाई 2022 को विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2023 कार्यक्रम के अनुसार प्रदेश में इसकी तैयारी शुरू हो गई थी। श्री राजन ने बताया कि 9 नवंबर 2022 को प्रदेश के समस्त मतदान केंद्रों पर मतदाता सूची के प्रारूप का प्रकाशन किया जाएगा। इसी तारीख से 8 दिसंबर तक मतदाता नाम जोड़ने, हटाने, त्रुटि सुधार के लिए आवेदन कर सकेंगे। बीएलओ कार्यालयीन समय पर मतदान केंद्रों पर आवेदन लेंगे। इसी अवधि में दो दिवसीय विशेष कैंप भी लगाए जाएंगे और 26 दिसंबर तक प्राप्त आवेदन-पत्रों का निराकरण किया जाएगा। इसके बाद 5 जनवरी 2023 को अंतिम मतदाता सूची का प्रकाशन किया जाएगा।
लाख 88 हजार मतदाता परिचय-पत्र में लगेगी कलर फोटो
प्रदेश में 5 लाख 88 हजार ऐसे मतदाता परिचय-पत्र है, जिसमें पुरानी ब्लैक एवं व्हॉइट फोटो लगी हुई है। उनको बदला जाएगा। कलर फोटो लगाकर नया वोटर आईडी कार्ड जारी किया जाएगा। श्री राजन ने मतदाताओं की डेमोग्राफिक सीमिलर एंट्री, फोटो सीमिलर एंट्री, ईपिक कार्ड की दोहरी एंट्री को समाप्त करने, खराब, जीर्णशीर्ण मतदान भवनों की जगह नजदीक बने नए भवनों को मतदान केंद्र बनाने के निर्देश दिए।
एक ही मतदान केंद्र पर रहेगा नाम
कमिश्नर, कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी से कहा गया कि पुनरीक्षण के दौरान यह भी ध्यान रखा जाए कि एक परिवार के सदस्यों का नाम एक ही मतदान केंद्र पर हो। किसी भी सदस्य का नाम न छूटे।
दो कि.मी. से अधिक दूरी पर न हो मतदान केंद्र
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजन ने बताया कि दो किलोमीटर से अधिक की दूरी पर मतदान केंद्र नहीं होना चाहिए। विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण गतिविधियों के दौरान इस पर विशेष ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि
जिन जिलों में ऐसे मतदान केंद्र हैं, जिसमें मतदाताओं की संख्या 1500 से अधिक और 200 से कम है। उन मतदान केंद्रों का भी सत्यापन कर युक्तियुकरण की कार्रवाई की जाये। बैठक में अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री राजेश कुमार कौल, संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी डॉ. के.डी. त्रिपाठी मौजूद रहे।
21 हज़ार मंदिर के पुजारियों को दिया जाएगा प्रशिक्षण : मंत्री सुश्री ठाकुर
मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन यात्रा निरंतर जारी रहेगी
भोपाल। संस्कृति, पर्यटन और धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व मंत्री सुश्री उषा ठाकुर ने कहा है कि प्रदेश में शासन संधारित लगभग 21 हज़ार मंदिर के पुजारियों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। मंदिर समाज के संस्कार केंद्र हैं। यही भावी पीढ़ी को समाज के मूल्य और आदर्श संचारित करते हैं। मंदिर के प्रति समाज की भूमिका और समाज में मंदिर के महत्व को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा। प्रशिक्षण का पाठ्यक्रम और दिनचर्या का निर्धारण किया जा रहा है।
मंत्री सुश्री ठाकुर ने बताया कि मुख्यमंत्री तीर्थ-दर्शन योजना की ट्रेन अब निरंतर चलाई जाएगी। वर्तमान में लगभग 150 ट्रेन चलाने की योजना बनाई गई है। आदिगुरू शंकराचार्य ने चार धाम स्थापित किए थे, जिससे सनातन हिंदू धर्म के साधक चार धाम की यात्रा कर पुण्य प्राप्त कर सकें। मुख्यमंत्री और प्रदेश के श्रवण कुमार श्री शिवराज सिंह चौहान ने आदि गुरू शंकराचार्य द्वारा शुरू की गई तीर्थाटन संस्कृति को आगे बढ़ाने का संकल्प लिया है। इसी संकल्प को साकार करने के लिए विभाग प्रयासरत है।

 

Related posts