38 C
Bhopal
April 11, 2021
ADITI NEWS
रोजगार

Bhopal गांव-गांव में किसान खेत पाठशाला जारी

भोपाल संभाग के संयुक्त संचालक किसान कल्याण तथा कृषि विकास बी.एल.बिलैया द्वारा बताया गया कि संभाग के सभी जिलों में रबी वर्ष 2020-21 में किसान खेत पाठशालाओं का द्वितीय चरण 8 दिसम्बर प्रारंभ हो गया है। यह अभियान 18 दिसम्बर 2020 तक आयोजित किया जाएगा। संभाग के सभी जिलों में किसान खेत पाठशालाओं के द्वितीय चरण का क्रियान्वयन पंचायत पर किया जा रहा है। किसान खेत पाठशाला के द्वितीय चरण के क्रियान्वयन के लिए निर्देश दिए गए। किसान खेत पाठशाला के प्रथम चरण का उद्देश्य था कि कृषक कृषि एवं पशुपालन की नवीन तकनीकों को अपनाये जिससे फसल एवं दुग्ध उत्पादन में वृद्धि हो।  द्वितीय चरण में किसान खेत पाठशाला के आयोजन की सूचना पंचायतों को पहले से ही दी जाए एवं इसका व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। प्रत्येक प्रशिक्षण दल में उन्नत कृषक एवं उन्नत पशुपालक को शामिल करें। किसान खेत पाठशाला के आयोजन के समय ग्राम पंचायत में प्रशिक्षण दल के साथ पटवारी, पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, किसान मित्र/दीदी ग्राम कोटवार एवं ग्राम स्तर पर कार्यरत शासकीय अमले के साथ-साथ प्रगतिशील कृषक एवं विभिन्न योजनाओं से लाभांवित कृषक की उपस्थित सुनिश्चित होगी। किसान खेत पाठशाला के द्वितीय चरण के लिए रिर्सोस पर्सन के रूप में स्थानीय सफल कृषक एवं सफल पशुपालक को चिंहित किए गए है। जो खेत पाठशाला के दौरान अपनी सफलता की कहानी अन्य किसानों के साथ साझा करेंगे जिससे दूसरे कृषक भी उनका अनुसरण कर सकें। निर्देश दिए गए हैं कि किसान खेत पाठशाला का आयोजन उपयुक्त स्थान, ग्राम चौपाल, खुले मैदान में, मंदिर, छायादार वृक्ष के नीचे आयोजित करें। नवीन निर्माणाधीन गौ-शाला परिसर का चयन करे ताकि सभी किसान आसानी से उपस्थित हो सके।

किसानो के मोबाइल नम्बर का डाटाबैंक तैयार करने के लिए मोबाइल नम्बर को निम्न डाटा से लिया जा सकता है 01 – आत्मा 02 -पिछले वर्ष के गेहूँ के पंजीयन का डाटा 03-किसान खेत पाठशाला के प्रथम चरण में एकत्रित मोबाइल नम्बर। डाटा से रिपीट मोबाइल नम्बर को हटाने का कार्य एवं डाटा बैंक तैयार करने का कार्य पूर्ण किया जाए। डाटा बैंक के किसानों को जो मैसेज/एसएमएस भेजे जाएगे वो कृषि/पशुपालन विशेषा द्वारा तैयार किया जाकर जिलों को भेजे जाएगे। किसान खेत पाठशाला के आयोजन की सूचना किसानों को एसएमएस के माध्यम से दी जाए एवं खेत पाठशाला आयोजन के पूर्व ग्राम पंचायत के ग्रामों में ग्राम कोटवार द्वारा मुनादी करवायी जाए। किसान खेत पाठशाला में नरवाई न जलानें के लिए व्यापक प्रचार प्रसार कराए तथा स्ट्रारीपर के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए किसानों को प्रोत्साहित किया जाए। किसान खेत पाइशाला के द्वितीय चरण में दुग्ध उत्पादन में वृद्धि के लिए विशेष प्रयास किए जाए जिसके अंतर्गत सहकारिता एवं पशुपालन विभाग के अधिकारी (संभागीय एवं जिला) खेत पाठशाला के दौरान दुग्ध समितियों का भ्रमण करें एवं दुग्ध उत्पादक सदस्यों, समिति अध्यक्ष एवं सचिव से चर्चा कर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि के लिए आवश्यक तकनीकी जानकारी प्रदान करें।

Related posts