28.1 C
Bhopal
May 28, 2022
ADITI NEWS
शिक्षा

गाडरवारा ,शिक्षक हल्केवीर पटैल का नवाचार, घरों को बना दिया विद्याघर

गाडरवारा।विकासखंड साईंखेड़ा अंतर्गत ग्रामपंचायत तूमड़ा की शासकीय प्राथमिक शाला तूमड़ा के प्राथमिक शिक्षक हल्के वीर पटैल ने कोरोना काल में बच्चों को शिक्षा प्रदान करने के लिए एक नई पहल की है। शिक्षक पटैल ने अपनी शाला के विशेषकर उन बच्चों को जिनके पास टी.वी.,रेडियो ,एनड्रोइड मोबाइल जैंसे संसाधनों का अभाव है एवं डाटा संबंधि समस्या बनी रहती है या जिनके पालक घर से बाहर जाते समय मोबाइल अपने साथ ले जाते हैं, ऐंसे बच्चे राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा डिजिलेप ग्रुप में नियमित रूप से प्रदत्त आनलाइन शिक्षण का लाभ प्राप्त नहीं कर पाते। ऐंसे बंचित विद्यार्थियों के प्रभावी शिक्षण के लिए शिक्षक द्वारा सुरक्षित व प्रभावी नवाचार को अपनाया है, इन्होंने अपनी शाला के प्रमुख मनीष पटैल की सहमति और पालकों व मेन्टर्स की मदद लेकर अपनी शाला के हर एक बच्चे के घर की दीवारों , सीढ़ियों , दरवाजों,खम्बों एवं आसपास बेकार पड़ी बस्तुओं में बच्चों के स्तर अनुसार शिक्षण सामग्री का विभिन्न रंगों का उपयोग कर लेखन व चित्रण बड़े आकर्षक ढंग से किया है। घरों को शिक्षण सामग्री से सजाने पर बच्चों व पालकों में काफी उत्साह है क्योंकि प्रत्येक बच्चे के घर को साज-सज्जा करके पाठशाला का रूप दे दिया गया है।बच्चे अपने- अपने घर में स्वयं या मेन्टर्स की मदद से घरों में लिखी गई शिक्षण सामग्री को खूब आनन्दित होकर कई बार पढ़ते और लिखते हैं, अब वे खेल-खेल में अपने छोटे बड़े भाई -बहनों के साथ मजा लेकर पढ़ते हैं।बच्चों के घरों में लिखी गई शिक्षण सामग्री ‘कोरोना’ समाप्ति के बाद भी स्कूल खुल जाने पर बहुत उपयोगी सिद्ध होगी। शिक्षक द्वारा इस नवाचार को क्रियान्वित करने में 15 से 18 दिनों का समय लगा और इस कार्य में बहुत कम कुल 600 ऱुपये की राशि खर्च हुई है हालाकि शिक्षक नें स्वयं पेन्टिंग की है । बच्चों के शैक्षणिक हित के चलते पालकों में इतना जोश दिखा कि कुछ पालकों नें पहले से उपलब्ध अपने घर के कलर पेन्ट पेन्टिंग के लिए शिक्षक को दिये।शिक्षक पटैल ने कुछ दिनों बाद अपने द्वारा किये गये घर आधारित शिक्षण के नवाचार की समीक्षा की जिसमें लगातार अच्छे परिणाम देखने मिल रहे है, बच्चे अपने – अपने घरों को पाठशाला जैंसा महसूस कर रहे हैं और पालक इस पहल से काफी प्रसन्नता है।शिक्षक हल्के वीर पटैल ने अपनी शाला में उच्च गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की दिशा में पूर्व में भी अनेक नवाचार किये हैं जिसके परिणामस्वरूप राजकीय सम्मान सहित अनेक सम्मानों से नवाजा गया है। शिक्षक पटैल ने कोरोना काल में विद्यार्थियों के हितों को ध्यान में रखते हुए इस नवाचार को बहुत ही उपयोगी बताया। घर एक सीखने का संसाधन एवं घर आधारित शिक्षण के नवाचार की प्रेरणा शिक्षक पटैल को राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा प्रदत्त आनलाइन ट्रेनिंग से मिली। इस कार्य के लिए उन्हे बी.आर.सी. चंदन शर्मा,जे .एस. के .प्रभारी धर्मदास वर्मा बी.ए.सी.योगेन्द्र झारिया व संदीप स्थापक ,मनीराम मेहरा एवं जन शिक्षक प्रशांत राय ने प्रोत्साहित किया और कार्य की सराहना की । इसके अलावा जिले के राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त शिक्षक राजेश सोनी ने भी इस कार्य की प्रशंसा करते हुये इसे संकट की घड़ी में संजीवनी की भाँति उपयोगी करार दिया।

Related posts