23 C
Bhopal
September 22, 2021
ADITI NEWS
व्यापार समाचार

मंडला, खाद्य प्रसंस्करण उद्योग राज्य मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने फूड पार्क मनेरी जिला मंडला, मध्य प्रदेश में स्थापित खाद्य प्रसंस्करण यूनिट का उद्घाटन किया।

देश की आज़ादी के 75 वर्षों के उपलक्ष्य में भारत सरकार द्वारा मनाए जा रहे ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ की एक कड़ी के रूप में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय द्वारा 6 सिंतबर 2021 से 12 सिंतबर तक फूड प्रोसेसिंग सप्ताह मनाया जा रहा है, जिसके तहत मंत्रालय द्वारा कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

इसी कड़ी में सोमवार को मंत्रालय द्वारा सोशल मीडिया मंच पर आधिकारिक वीडियो द्वारा फूड प्रोसेसिंग सप्ताह की शुरूआत की गई। इसी क्रम में पीएमएफएमई योजना की लाभार्थी श्रीमती राधिका कामत के संघर्षों और सफलताओं की कहानी को ‘आत्मनिर्भर उद्यम’ की श्रृंखला में मंत्रालय की वेबसाइट पर प्रकाशित किया गया।

साथ ही मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले भारतीय खाद्य प्रसंस्करण प्रौद्योगिकी संस्थान द्वारा मध्य प्रदेश के दमोह में ‘एक ज़िला, एक उत्पाद’ के तहत टमाटर के प्रसंस्करण और मूल्य संवर्धन पर आधारित एक वेबिनार का आयोजन भी किया गया। स्वयं सहायता समूहों के 811 सदस्यों के लिए ग्राम पंचायत-स्तरीय के फ़ेडरेशन्स को सीड कैपिटल के तौर पर 3.16 करोड़ रूपयों की राशि अंतरित की गई।

इसी क्रम में खाद्य प्रसंस्करण उद्योग राज्य मंत्री, श्री प्रहलाद सिंह पटेल ने मंत्रालय की बहुआयामी प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना के अंतर्गत आने वाले सीईएफपीपीसी स्कीम के तहत ‘मेसर्स विभूति मार्ट प्राइवेट लिमिटेड’ के फूड पार्क मनेरी, जिला मंडला, मध्य प्रदेश में स्थापित खाद्य प्रसंस्करण यूनिट का उद्घाटन भी किया। इस अवसर पर माननीय राज्य मंत्री ने एक अत्याधुनिक प्रसंस्करण सुविधा को विकसित करने के लिए इकाई के प्रमोटरों की भी सराहना करते हुए कहा कि “यह क्षेत्र के विकास में मील का पत्थर साबित होगा और किसानों, उत्पादकों, प्रसंस्करणकर्ताओं तथा आस-पास के क्षेत्रों के उपभोक्ताओं को लाभांवित करेगा”। मध्य प्रदेश के मंडला ज़िले में स्थापित इस खाद्य प्रसंस्करण यूनिट की परियोजना लागत 12.90 करोड़ रुपये है, जिसमें मंत्रालय द्वारा 4.65 करोड़ रूपए का अनुदान दिया गया है। इस यूनिट की कुल क्षमता (आउटपुट) 4000 लीटर प्रति घंटा है। इसके साथ ही इस यूनिट द्वारा लगभग 260 लोगों को प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार तो मिलेगा ही, आसपास के इलाके के किसानों के साथ-साथ आमजन भी इससे लाभान्वित होंगे।

Related posts