22.1 C
Bhopal
March 3, 2024
ADITI NEWS
शिक्षासामाजिक

नरसिंहपुर जिले के प्रमुख समाचार,

21 सितम्बर को एकात्मता की मूर्ति का अनावरण

नरसिंहपुर । ओंकारेश्वर में एकात्मक धाम के अंतर्गत आदि गुरू शंकराचार्य जी की 108 फीट की बहुधातु प्रतिमा एकात्मता की मूर्ति का अनावरण मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के द्वारा 21 सितम्बर को किया जायेगा। इस कार्यक्रम का लाइव प्रसारण जिले के मुख्य मंदिरों, तीर्थ स्थलों में एलईडी एवं टीव्ही के माध्यम से कराया जायेगा। इस कार्यक्रम के लाइव प्रसारण की व्यवस्था के लिए कलेक्टर सुश्री ऋजु बाफना ने सभी सीएमओ एवं जनपद पंचायत सीईओ को आवश्यक निर्देश दिये हैं।

      आचार्य शंकर की 108 फीट की बहुधातु प्रतिमा की स्थापना मध्यप्रदेश राज्य पर्यटन विकास निगम के माध्यम से एल एण्ड टी कम्पनी द्वारा की गयी है। एकात्मता की मूर्ति का विस्तृत विवरण निम्नानुसार है :-

एकात्मता की मूर्ति

      इसकी स्थापना अद्वैत लोक (शंकर संग्रहालय) के मध्य में की गयी है। अद्वैत लोक तथा एकात्मता की मूर्ति लगभग 11.5 हैक्टेयर भूमि पर स्थापित की जा रही है। 108 फीट की बहुधातु मूर्ति 12 साल के आचार्य शंकर की है। यह मूर्ति पत्थर निर्मित 16 फीट के कमल पर स्थापित है। यह प्रतिमा विख्यात चित्रकार श्री वासुदेव कामत के द्वारा बनाये गये चित्र के आधार पर बनाई गयी है। वासुदेव कामत के द्वारा बनाये गये बाल शंकर के चित्र के आधार पर मूर्ति बनाये जाने हेतु भारत देश के 11 मूर्तिकारों का चयन किया गया। इन 11 मूर्तिकारों द्वारा 5 फीट की मूर्ति प्रस्तुत करने पर सर्च कम सिलेक्शन कमेटी द्वारा इनमें से 3 मूर्तिकारों का चयन किया गया और फिर इन 3 मूर्तिकारों में से श्रेष्ठतम प्रतिकृति प्रस्तुत करने वाले मूर्तिकार श्री भगवान रामपुरे, सोलापुर का चयन किया गया।

      प्रतिमा का निर्माण एलएनटी कम्पनी के द्वारा श्री भगवान रामपुरे मूर्तिकार, श्री वासुदेव कामत चित्रकार के मार्गदर्शन में जेटीक्यु चाईना से कराया गया है। यह प्रतिमा 100 टन की है। प्रतिमा 88 प्रतिशत कॉपर, 4 प्रतिशत जिंक तथा 8 प्रतिशत टिन के मिश्रण से बनाई गयी है। एकात्मता की मूर्ति कुल 290 पैनल को मिलाकर निर्मित की गयी है।

आचार्य शंकर की मूर्ति (एकात्मता की मूर्तिओंकारश्वर में ही क्यों ?

      आचार्य शंकर का जन्म केरल के कालड़ी ग्राम में हुआ। उनकी माता का नाम आर्याम्बा तथा पिता का नाम शिवगुरू था। 08 वर्ष की आयु में बाल शंकर अपनी माँ से आज्ञा प्राप्त कर गुरू की खोज में निकल पड़े। बाल शंकर गुरू की खोज में नर्मदा किनारे चलते- चलते ओंकारेश्वर आए और ओंकारेश्वर में उन्हें गोविन्द भगवदपाद मिले। ओंकारेश्वर में गोविन्द भगवदपाद से बाल शंकर को गुरू दीक्षा मिली। बाल शंकर द्वारा गुरू गोविन्द भगवदपाद के सानिध्य में रहकर लगभग 03 वर्ष तक शिक्षा ग्रहण की। आचार्य शंकर द्वारा नर्मदाष्ट्कम की रचना ओंकारेश्वर में ही की गई। गुरू आदेश पर 11 वर्ष की आयु में अद्वैत वेदान्त दर्शन के प्रचार-प्रसार के लिये ओंकारेश्वर से प्रस्थान किया।

चिरस्थाई स्मृति

      ओंकारेश्वर में स्थापित होने वाले एकात्म धाम को चिरस्थाई बनाने के लिये एकात्मता की मूर्ति के अतिरिक्त अद्वैत लोक (शंकर संग्रहालय) तथा आचार्य शंकर अंतरराष्ट्रीय अद्वैत वेदान्त संस्थान की स्थापना की जा रही है।

अद्वैत लोक (शंकर संग्रहालय)

      आचार्य शंकर के जीवन-दर्शन तथा योगदान को अद्वैत लोक में निम्नलिखित घटकों के माध्यम से जनसामान्य के समक्ष प्रस्तुत किया जायेगा।

शंकर स्तम्भ

      एकात्मता की मूर्ति के नीचे भवन में एक विशाल स्तम्भ है जिसका नाम शंकर स्तम्भ है। शङ्कर स्तम्भ 45 फीट ऊँचा है और इसका डाया लगभग 100 फीट है। शंकर स्तंभ पर आदि शंकराचार्य के जीवन की 32 घटनाओं को लो रिलीफ के द्वारा प्रदर्शित किया जायेगा।

निदिध्यासन केन्द्र

      इस केन्द्र की क्षमता लगभग 300 होगी। गाईडेड मेडिटेशन विविध भाषाओं में कराया जायेगा। श्रीयन्त्र प्रांगण में प्रतिदिन ‘लेजर, लाइट, वॉटर एण्ड साउण्ड शो’ होगा। इस शो में उपनिषदों की कथाओं को रोचक ढंग से दर्शकों हेतु प्रतिदिन सन्ध्याकाल में प्रस्तुत किया जायेगा।

हाइस्क्रीन थियेटर

      इसकी कुल क्षमता 500 होगी। आचार्य शङ्कर के जीवन और दर्शन को हाइस्क्रीन के माध्यम से दिखाया जायेगा।

सृष्टि गैलरी

      ‘सृष्टि’- वेदान्त व्याख्या का एक केन्द्र होगा। इसमें थ्रीडी होलोग्राम एवं अन्य आधुनिक तकनीक के माध्यम से ब्रह्म, सृष्टि, माया, जीव एवं जगत आदि सिद्धान्तों को कथानक के रूप में बुनकर रोचक तरीके से प्रस्तुत किया जायेगा।

डायोरामा

      कुल सात डायोरामा के माध्यम से आचार्य शङ्कर के सम्पूर्ण जीवन का सजीव प्रस्तुतीकरण किया जायेगा। अद्वैत नर्मदा विहार अद्वैत लोक (संग्रहालय) के निम्न भूतल में अद्वैत नर्मदा विहार स्थित होगा। इसमें दर्शक स्वचलित नौकाओं के माध्यम से विहार कर सकेंगे। नौकाविहार का प्रारम्भ (बोर्डिंग एरिया)- नर्मदा के उद्गमस्थल अमरकंटक से होकर अन्त भरुच की खाड़ी में होगा।

कला वीथिका

      आचार्य के जीवन, दर्शन तथा आचार्य की रचनाओं को चित्रों के माध्यम से दिखाया जायेगा। देश के विख्यात चित्रकारों से केरल म्यूरल, ओडिशा पट्टचित्र, कांगड़ा, मधुवनी तथा समकालीन विभिन्न शैलियों में चित्र बनवाये जा रहे हैं।

अन्नपूर्णा

      अन्नपूर्णा में लगभग 1500 लोगों के भोजन की व्यवस्था पारम्परिक एवं आधुनिक शैली दोनों में होगी। अन्नपूर्णा में पधारने वाले सभी आगंतुकों हेतु विशेष व्यंजन “अद्वैतभोग” की भी व्यवस्था होगी। अन्नपूर्णा में परिक्रमावासियों एवं अन्य भक्त जनों के लिये न्यूनतम मूल्य पर प्रसादी(खिचड़ी) एवं ले जाने के लिये प्रसाद उपलब्ध कराया जायेगा। अद्वैत कलाग्राम मध्यप्रदेश एवं भारतवर्ष की समस्त लोक एवं क्षेत्रीय शिल्पों के प्रदर्शन तथा विक्रय हेतु यह केन्द्र विकसित किया जायेगा। दुकानों की वास्तुशैली, पारम्परिक मन्दिर वास्तुशिल्प आधारित होगी।

पंचायतन मन्दिर

      आचार्य शंकर द्वारा पुनर्स्थापित पंचायतन पूजा पद्धति पर आधारित पंचायतन मन्दिर का निर्माण होगा। इस मंदिर का स्थापत्य पारम्परिक नागर शैली में होगा। यह मंदिर पूर्ण रूप से पत्थर से ही बनाया जाएगा। यहाँ पर नित्य पूजा अभिषेक होंगे तथा भक्त भी पूजा अभिषेक कर पायेंगे।

वरिष्ठ नागरिक एवं दिव्यांग मतदाताओं की सहभागिता के साथ मतदाता जागरूकता अभियान के कार्यक्रम किये जायें

नरसिंहपुर ।आगामी विधानसभा निर्वाचन- 2023 के मद्देनजर जिले में अधिकतम मतदान के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए सभी वर्ग एवं समूहों के मतदाताओं को मतदान के लिए प्रेरित किया जाना है। इसी क्रम में गुरूवार को वरिष्ठ नागरिकों (80+) आयु तथा दिव्यांग वर्ग के मतदाताओं के साथ सभी अनुभागों में मतदाता जागरूकता का कार्यक्रम आयोजित किया जाना है। मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री दलीप कुमार ने सभी अनुविभागीय राजस्व अधिकारियों को निर्देशित किया है कि संबंधित वर्ग एवं समूह की सहभागिता के साथ अन्य विभागों के साथ समन्वय स्थापित करते हुए उपरोक्तानुसार कार्यक्रम आयोजित किया जाना सुनिश्चित करें। कार्यक्रम के दौरान शुभंकर “रेवा” को भी जागरूकता हेतु प्रोत्साहित करते हुये, आयोजित किये जाने वाले सभी कार्यक्रमों एवं गतिविधियों के फोटोग्राफ्स एवं समाचारों का प्रकाशन एवं संकलन किया जाये तथा संकलित दस्तावेजों को इस कार्यालय में हार्ड एवं साफ्ट कापी में अनिवार्यत: प्रेषित किया जाना भी सुनिश्चित करें।

धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी

नरसिंहपुर ।आगामी विधानसभा आम निर्वाचन- 2023 के परिप्रेक्ष्य में निर्वाचन संबंधी कार्यों की तैयारियां प्रारंभ हो चुकी है। निर्वाचन नजदीक होने पर कार्यालय कलेक्टर नरसिंह भवन नरसिंहपुर के परिसर में जिले के विभिन्न संगठनों द्वारा बिना सूचना के जुलूस के रूप में आकर ज्ञापन देने के लिए उपस्थित होने एवं नारेबाजी करने का कृत्य किया जाता है। इस कारण शासकीय निर्वाचन सम्बंधी कार्यो में बाधा उत्पन्न होती है एवं शांति भंग होने की आशंका बनी रहती है। जिला दण्डाधिकारी नरसिंहपुर ने आगामी विधानसभा निर्वाचन एवं शांति व्यवस्था को दृष्टिगत रखते हुए दण्ड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 के तहत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया है।

      जारी आदेश के तहत किसी भी संगठन द्वारा नरसिंह-भवन नरसिंहपुर के परिसर में (कार्यालय पुलिस अधीक्षक नरसिंहपुर सहित) जुलूस के रूप में प्रवेश नहीं किया जाएगा और ना ही नारेबाजी भी की जाएगी। यदि कोई संगठन किसी मुद्दे पर ज्ञापन प्रस्तुत करना चाहता है, तो इसकी पूर्वानुमति सम्बंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी से लिखित में प्राप्त करेंगे एवं उक्त संगठन के 5 व्यक्ति उक्त परिसर में प्रवेश कर अधिकृत अधिकारी को ज्ञापन सौपेंगे। किसी भी संगठन द्वारा कार्यालय में प्रस्तुत किये जाने वाले ज्ञापन अनुविभागीय दण्डाधिकारी नरसिंहपुर,डिप्टी कलेक्टर अथवा तहसीलदार नरसिंहपुर द्वारा प्राप्त किये जायेंगे।

      इस आदेश का उल्लंघन करने पर सम्बंधित के विरूद्ध भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के तहत कार्यवाही की जायेगी। चूँकि उपरोक्त परिस्थितियां एकाएक उत्पन्न हुई हैं और किसी पक्ष या किसी व्यक्ति को व्यक्तिश: सुनवाई का अवसर देना संभव नहीं है। इस कारण यह आदेश दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 (2) के तहत समयाभाव के कारण एकपक्षीय रूप से पारित किया जाता है।

जनसुनवाई में कलेक्टर ने सुनी लोगों की समस्यायें

जनसुनवाई में आये 90 आवेदन

नरसिंहपुर।कलेक्टर कार्यालय नरसिंहपुर के जनसुनवाई हाल में मंगलवार 19 सितम्बर को जिले के विभिन्न स्थानों पहुंचे लोगों ने कलेक्टर सुश्री ऋजु बाफना को अपनी समस्यायें बताई और आवेदन दिये। कलेक्टर ने लोगों की समस्याओं को गंभीरतापूर्वक सुना। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को आवेदनों के समय सीमा में निराकरण के निर्देश दिये। उन्होंने विभिन्न आवेदनों का मौके पर भी निराकरण कराया। कलेक्टर ने वीसी के माध्यम से भी अधिकारियों को निराकरण के लिए आवश्यक निर्देश दिये। कलेक्ट्रेट में हुई जनसुनवाई में 90 आवेदन आये।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के लिए कैम्प का हो आयोजन

नरसिंहपुर।प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत वर्ष में कुल 6 हजार रूपये की राशि तीन समान किस्तों में प्रदान की जाती है। योजना के अंतर्गत 15 वीं किस्त से हितग्राही की लैंड लिंक, आधार एवं बैंक खाता हेतु इनेबल, ई- केवायसी होना अनिवार्य है।

आधार एवं बैंक खाता लिंकिंग के लिए हितग्राही को संबंधित बैंक शाखा में जाकर बैंक खाता आधार से लिंक कराना अथवा इंडियन पोस्ट बैंक के साथ आधार इनेवल्ड खाता खोलकर समस्या का निराकरण किया जा सकता है। जिले में 8981 हितग्राहियों का आधार एवं बैंक खाता लिंकिंग से शेष है, जिसे अभियान के तौर पर पूर्ण किया जाना है।

ई- केवायसी के लिए सीएससी केन्द्र/ पीएम किसान पोर्टल/ पीएम किसान एप के माध्यम से हितग्राहियों द्वारा ई- केवायसी की कार्यवाही पूर्ण की जाना है। जिले में 11878 हितग्राहियों का ई- केवायसी लंबित है । ई- केवायसी की कार्यवाही हितग्राहियों द्वारा सीएससी केन्द्र पर जाकर बायोमेट्रिक के माध्यम से एवं पीएम किसान पोर्टल/ पीएम किसान एप के माध्यम से आधार नम्बर के साथ रजिस्टर्ड मोबाईल नम्बर पर ओटीपी के माध्यम से पूर्ण की जा सकती है। इसके साथ ही पीएम किसान एप पर फेस रिकग्निशन के माध्यम से भी ई- केवायसी की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। जिसके द्वारा मोबाईल एप के माध्यम से एक हितग्राही द्वारा अन्य 100 हितग्राही का ई- केवायसी फेस रिकग्निशन के माध्यम से किया जा सकता है।

इस संबंध में अपर कलेक्टर ने तहसीलदार/ नायब तहसीलदार नरसिंहपुर, करेली, गोटेगांव, गाडरवारा, तेन्दूखेड़ा व सांईखेड़ा से कहा गया है कि यह कार्य 30 सितम्बर 2023 तक अभियान के तौर पर कैम्प के माध्यम से पूर्ण किया जाना सुनिश्चित करें।

विकास रथ 20 सितम्बर को गाडरवारा व गोटेगांव के लिए रूट चार्ट

नरसिंहपुर । प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं को जन- जन तक पहुंचाने और इसका व्यापक प्रचार- प्रसार करने के उद्देश्य से जिले में 2 रथ भेजे गये है। ये रथ जिले की विधानसभा क्षेत्रों के गांव- गांव और नगरीय निकायों में पहुंचकर लोगों को शासन की योजनाओं को दिखायेंगे। इसके लिये रथों में एलईडी की व्यवस्था भी की गई है। एलईडी से विभिन्न प्रकार की विभिन्न योजनाओं की लघु फिल्म भी दिखाई जायेंगी, जिससे लोग प्रेरित होकर इसका लाभ ले सकें।

इस सिलसिले में 20 सितम्बर को विधानसभा क्षेत्र गाडरवारा के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत पीपरपानी, टुईयापानी, झिरियामाता, टेकापार, पिपरियाकलां, सोकलपुर, बम्होरीकलां व गरधा में भ्रमण करेगा।

इसी तरह 20 सितंबर को विधानसभा क्षेत्र गोटेगांव के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत रीछा, मगरधा शेढ़, बरहटा, सिलवानी, खापा, रोहिया पटी, गाडरवाराखेड़ा व बासनपानी में भ्रमण करेगा।

संभागीय शालेय व्हालीबॉल प्रतियोगिता

नरसिंहपुर । संयुक्त संचालक लोक शिक्षण जबलपुर संभाग के वार्षिक खेल केलेंडर सत्र 2023- 24 के अनुसार जिले में संभागीय शालेय व्हालीबॉल प्रतियोगिता बालक वर्ग में 20 से 22 सितम्बर तक शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय स्टेडियम ग्राउंड नरसिंहपुर में आयोजित की जायेगी। यह प्रतियोगिता 14, 17 व 19 वर्ष आयुवर्ग में होगी। इसके लिए जिला शिक्षा अधिकारी नरसिंहपुर ने अधिकारी/ कर्मचारियों को दायित्व सौंपे हैं।

समाचार

समय सीमा की बैठक संपन्न

नरसिंहपुर । कलेक्टर सुश्री ऋजु बाफना की अध्यक्षता में सोमवार को कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में समय सीमा की बैठक संपन्न हुई। बैठक में सीईओ जिला पंचायत श्री दलीप कुमार, अपर कलेक्टर श्रीमती अंजली शाह और विभिन्न विभागों के विभाग प्रमुख मौजूद थे।

      बैठक में कलेक्टर ने निर्वाचन से संबंधित समीक्षा के दौरान संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि फार्म 7 का ध्यान से ‍डिस्पोजल करें। ऐसे मतदाता जिनकी मृत्यु हो गई है और जिनके दोबारा मतदाता सूची में नाम दर्ज हैं उनको हटायें। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि एसडीएम, एसडीओपी, एसडीएम, टीआई व तहसीलदार संयुक्त रूप से अतिसंवेदनशील मतदान केन्द्रों की मेपिंग कर लें।

आगामी त्यौहारों के लिए आयोजित करें शांति समिति की बैठक

      कलेक्टर ने 28 सितम्बर को ईद- उल- नबी, गणेश विसर्जन और पयुर्षण पर्व इन त्यौहारों को दृष्टिगत रखते हुए सभी एसडीएम को निर्देशित किया कि वे अपने- अपने स्तर पर शांति समिति की बैठक आयोजित कर लें।

      बैठक में बिना अनुमति के अनुपस्थित पाये जाने पर सीएमओ चीचली व नरसिंहपुर का एक दिवस का वेतन काटने के निर्देश दिये। बैठक में विलंब से आने पर सीएमओ गाडरवारा का भी एक दिवस का वेतन काटने के निर्देश दिये।

      सीएम हेल्पलाइन की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि शिकायत के निराकरण से संबंधित फील्ड में जायें और कार्यवाही करें। गाडरवारा एसडीएम ने अवगत कराया कि धारणाधिकार के 212 प्रकरण लोकसेवा केन्द्र गाडरवारा में लंबित हैं। इस पर कलेक्टर ने लोक सेवा केन्द्र पर पेनाल्टी लगाने के निर्देश दिये।

ज़िले के 35 स्व सहायता समूहों की महिलाओं ने लिया प्रशिक्षण

      समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने निर्देश दिये कि समग्र आईडी बनाने के कार्य पेडिंग नहीं रहें। कलेक्टर ने उपसंचालक किसान कल्याण तथा कृषि विभाग को निर्देशित किया कि किसान संबंधी समस्याओं का तत्काल निराकरण करें और वरिष्ठ अधिकारियों को सूचित करें।सहायक संचालक मत्स्य विभाग द्वारा बैठक  जानकारी दी गई कि अब तक ज़िले के 35 स्व सहायता समूहों की महिलाओं को मछली पालन का प्रशिक्षण दिया जा चुका है।इसमें से 26 स्व सहायता समूहों द्वारा जल संरचनाओं (डग पोंड एवं अमृत सरोवर) में मछली के बीज भी डलवाए जा चुके हैं।आईडब्ल्यूएमपी के अन्तर्गत वर्तमान में किए जा रहे कार्यों को पूर्ण करने के उपरांत ही नये कार्य प्रारंभ करने के निर्देश भी बैठक में कलेक्टर ने संबंधित अधिकारियों को दिए।

बिज़नेस मीट के सफल आयोजन के लिए दी बधाई

      एक जिला- एक उत्पाद अंतर्गत गाडरवारा तुअर दाल एवं करेली गुड़ वर्कशॉप बिजनेस मीट के दो दिवसीय एफपीओ के लिए मार्केट लिंकेज एवं क्षमता संवर्धन का आयोजन अच्छे से किया गया। इस पर कलेक्टर ने संबंधित अधिकारियों को बधाई दी और इस कार्य की सराहना की। कलेक्टर ने पीआईयू को निर्देशित किया कि सीएम राईज स्कूल के निर्माण कार्य प्रारंभ करें। इस कार्य को सर्वोच्च प्राथमिकता दें। उन्होंने आबकारी विभाग को निर्देशित किया कि अवैध शराब की रोकथाम के लिए ढाबे तथा होटलों पर लगातार चैकिंग करें। कलेक्टर ने निर्देशित किया कि संबल 2.0 योजना में निराकरण बेहतर तरीक़े से संपादित किया जाए।

      वर्ष 2018- 19 में समर्थन मूल्य पर विक्रय किये गये चना/ मसूर के भुगतान की समीक्षा की गई।समर्थन मूल्य पर विक्रय किये गये चना/ मसूर के भुगतान के सत्यापन के लिए समिति गठित करने के निर्देश कलेक्टर ने दिये।

प्रभारी स्टोर कीपर निलंबित

नरसिंहपुर ।कलेक्टर सुश्री ऋजु बाफना की अध्यक्षता में ज़िला स्वास्थ्य समिति की बैठक में स्वास्थ्य संस्थाओं में अतिआवश्यक दवाईयों की उपलब्धता की समीक्षा की गई थी जिसमें सामुदायिक/ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र में अतिआवश्यक दवाईयां उपलब्ध नहीं है। आयुष्मान भव: के अंतर्गत जिले में आयोजित स्वास्थ्य शिविरों में भी दवाईयां उपलब्ध नहीं कराई जा रही है।

      कम्पाउंडर, प्रभारी स्टोर कीपर कार्यालय मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी नरसिंहपुर श्री प्रताप सिंह चौकसे का उक्त कृत्य मप्र सिविल सेवा आचरण नियम 1965 के नियम 3 के प्रतिकूल पाये जाने के कारण कलेक्टर सुश्री बाफना ने निलंबित करने का आदेश जारी किया है।

 

Related posts