41.1 C
Bhopal
May 27, 2024
ADITI NEWS
सामाजिक

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा 26जनवरी को सालीचौका में निकाला ट्रैक्टर मार्च 

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा 26जनवरी को सालीचौका में निकाला ट्रैक्टर मार्च

संयुक्त किसान मोर्चा के देशव्यापी आव्हान के तहत नरसिंहपुर जिले के सालीचौका रोड में सैंकड़ों की संख्या में ट्रेक्टर मार्च निकालते हुए मुख्य बाजार में रैली निकाली । मोर्चा द्वारा सालीचौका के चिकमंगलूर चौराहे पर एक सभा आयोजित की गई जिसे मध्यप्रदेश किसान सभा के गाडरवारा तहसील अध्यक्ष जगदीश पटेल , महासचिव करनसिंह अहिरवार, कोषाध्यक्ष लालसाहव वर्मा, उपाध्यक्ष लीलाधर वर्मा, नरेंद्र वर्मा,नन्हेलाल वर्मा, कालुराम वर्मा के अलावा सालीचौका नगर से एडवोकेट भूपेंद्र पटेल, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी जिला सचिव देवेन्द्र वर्मा,नगर कांग्रेस अध्यक्ष पवन शुक्ला, एवं बी एस पी से बृजलाल अहिरवार ने संबोधित किया।

संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा तीन काले कृषि कानूनों की वापसी, एम एस पी को कानूनी दर्जा दिए जाने, स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश अनुसार C2+50 के आधार पर एमएसपी रेट जारी करने, बिजली बिल की वापसी सहित अन्य मांगों को लेकर 26 नवंबर 2020को भारत की राजधानी दिल्ली की सीमाओं पर 26नवंबर 2020से अभूतपूर्व संघर्स शुरू किया जो लगातार 380दिनों तक भाजपा आरएसएस गठजोड़ द्वारा तमाम हमलों साजिशों को झेलते हुए 26जनवरी 2021को जबरजस्त ट्रेक्टर रैली में षड्यंत्र रचकर हिंसा फैलाने का असफल प्रयास किया जो कि 715किसानों की शहादत के बाद भी जारी रहा, अंततः तानाशाह किसान विरोधी मोदी सरकार को किसानों की एकजुट संघर्ष के सामने घुटने टेकते हुए तीनों काले कृषि कानूनों को बापिस लेने मजबूर होना पड़ा, और शेष मांगों पर मोर्चा ने मौखिक नहीं लिखित आश्वासन मांगा तब जाकर 9दिसंबर 2021को मोदी सरकार ने आधिकारिक तौर पर हस्ताक्षरित पत्र संजय अग्रवाल, सचिव, कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय भारत सरकार द्वारा मोर्चे के नाम भेजा गया। जिस पर मोर्चे ने सिंघु बार्डर पर सर्वसम्मति सरकार के लिखित आश्वासन पर भरोसा कर आन्दोलन स्थगित किया था।

संयुक्त किसान मोर्चे द्वारा मोदी सरकार को बादा याद दिलाने बादा खिलाफी दिवस मनाते हुए देश भर में आंदोलन कर ज्ञापन दिए पर आज तक धोखेबाज मोदी सरकार ने संयुक्त किसान मोर्चा की कमेटी से किसी भी तरह की बात करने की पहल नहीं की है। बल्कि उल्टा किसान विरोधी नीतियां बनाकर कारपोरेट के हित में नीतियां बनाते हुए बिजली बिल से लेकर किसान मजदूर कर्मचारी विरोधी बिल लाए जा रहे हैं।

संयुक्त किसान मोर्चा गाडरावारा द्वारा देशव्यापी आव्हान पर सालीचौका में सैंकड़ों की संख्या में ट्रेक्टर मार्च निकालकर अपना विरोध जताया है। एवं बक्ताओं ने मोदी सरकार से लंबित मांगों पर सरकार तत्काल मोर्चा से बात कर किसान विरोधी बिल बापिस लेते हुए एमएसपी सहित किसान हित में निर्णय लिए जाने की मांग दोहराई है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी,किसान कांग्रेस एवं बी एस पी ने संयुक्त किसान मोर्चा को समर्थन दिया एवं साम्रदायिक कारपोरेट परस्त किसान मजदूर कर्मचारी विरोधी मोदी सरकार को उखाड़ फेंकने का आव्हान किया।

मोर्चे के जगदीश पटेल, योगेश पटेल, भूपेंद्र पटेल, त्रिलोचन कौरव, खेतसिंह कौरव, गंगाराम बघेले,मोहन पटेल, प्रभात पटेल, राजू रायसेनया, मोहन कुथरया, भावसिंह वर्मा, गया मुहारियां,देवेंद्र वर्मा, नरेंद्र वर्मा, कंछेदी कहार, लाल साहब वर्मा, करणसिंह अहिरवार, लीलाधर वर्मा, भेरोप्रसाद विश्वकर्मा, दीपक वर्मा, मेहरबान पटेल,जगदीष मुहारिया, प्रेमनारायण पटेल, कोमल सिंह, उमराव वर्मा, कालूराम वर्मा, योगेंद्र पटेल, नीरज वर्मा, खूबचंद वर्मा तुलसीराम श्रीवास , लल्ला श्रीवास, उदुराज वर्मा, रामसिंग वर्मा, विश्राम वर्मा, नन्हेलाल वर्मा, उमराव वर्मा, संतोष वर्मा, रामकृष्ण वर्मा, मथुरा प्रसाद, दीपक वर्मा, तीरथ लोधी, कमलेश मुहारिय, हरिशंकर वर्मा, कमलेश वर्मा, दारासिंह मेहरा,गरीबदास चौधरी ,तीरथ पटेल सोलर पटेल भगवानदास पटेल ओम प्रकाश वर्मा उदयसींग पटेल रामस्वरूप पटेल नीलेश पटेल संजु पटेल केलाश वर्मा अजय पटेल, सोनू मुहरिया, प्रदीप वर्मा, मुकेश वर्मा, ललता वर्मा, मनीराम वर्मा , परमसुख वर्मा, तुलसीराम वर्मा,उमेद सिंह, गिरधारी वर्मा, इंद्रेश वर्मा, देवेन्द्र वर्मा सहित सैंकड़ों किसान शामिल रहे।

 

Aditi News

Related posts